Followers

Tuesday, December 6, 2011

मेरी चाह


जब तुम मिले तो ऐसा लगा जैसे बरसों का खोया यार मिल गया .
आने से तुम्हारे सूने पड़े जीवन में बहार का मौसम  छा गया .

       अधूरी पडी उम्मीदों को एक राह का सहारा मिल गया
       मिलकर दिन गुजरे महीने गुजरे  गुजर   गए साल .

जिन्होंने मेरे सपनों को अपने सपनो से जोड़कर एक मुकाम दे दिया
ना चाहकर भी हमसे नाता जोड़ लिया अपनी राहों को हमारी राहों से जोड़ लिया  .

    ठोकर खा –खा कर अब और जीने की आस ना रही
    दिल पर अब और जख्म खाने की जगह ही ना रही .

मेरी खुशियों को अपनी खुशियों में ढाल लिया
मिलकर मुझसे मुझे जीना सिखा दिया  .
              काश मेरी खुशी किस में है यह भी जान लिया होता  
              गैरों ने जो जख्म दिया था वो तुमने तो ना दिया होता .
जिन खुशियों  को देने की खातिर  तुम हम से दूर हुए
दुनियां से लड़ –लड़कर थककर चूर हुए .

एक बार  जान  तो लिया होता आखिर मेरी चाह क्या है
दिल की हर धडकन में दिख जाता उसमें सिर्फ नाम तेरा है .

13 comments:

  1. वाह शिवा जी क्या गजब लिखा है, बहुत दिनों बाद लिखा है आजकल कहाँ रहते हो?

    ReplyDelete
  2. नमस्कार
    संदीप जी ,
    आपने मेरी रचना पढ़ी उसे सराहा उसके लिए बहुत -बहुत धन्यवाद....
    बस थोडा सा अपनी Phd को पूरा करने में लगा हुआ हूँ ...इसी लिए आजकल ब्लॉग पर ज्यादा आना नहीं हो पाता...
    धन्यवाद
    शिवकुमार (शिवा )

    ReplyDelete
  3. सुभान आल्लाह, बहुत खूब, इस कविता में जीवन की सच्चाई प्रतीत होती है. ऐसे ही कविताएं लिखते रहना.

    ReplyDelete
  4. बेहद खुबसूरत लिखा है |

    ReplyDelete
  5. This poem is so heart touching that my heart was very much emotional and crying when I was completing some lines.
    heads off to you sir

    ReplyDelete
  6. नमस्ते शिवकुमार जी

    आपकी कविता काफी अपनी सी लगी..पढ़ कर दिल भर आया..

    बधाई
    अमित अनुराग हर्ष

    ReplyDelete
  7. Dear Sir,

    A very nicely written poem

    Thanks
    Tanmay

    ReplyDelete
  8. Shiv Sir,

    Good to read this poem

    Regards
    Radhika

    ReplyDelete
  9. Sir,

    Very Touchy!! My heart was heavy reading this

    Regards
    Shubhangi

    ReplyDelete
  10. sir jee,

    achchi poam likhi apne

    best luck
    Upendra

    ReplyDelete
  11. अमृता जी ,अजीत जी , सौरभ जी , अनुराग अमित जी , तन्मय जी ,राधिका जी , सुभांगी जी ,और उपेन्द्र जी आप लोगों ने अपने व्यस्त समय से कुछ क्षण मेरी कविता के लिए निकले उसे पढ़ा और उसे सराहा .... आप सभी का बहुत -बहुत धन्यवाद .

    ReplyDelete

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.